अमेजन प्राइम ओरिजिनल पाताल लोक(Pataal Lok) वेब सीरीज 15 मई 2020 दर्शकों के सामने आ चुकी है। हमारी रिव्यु  टीम की तरफ से यह रहा मिर्ची रिव्यु आप लोगों के लिए।

 पाताल लोक(Pataal Lok) वेब सीरीज का  रिव्यु 2020,pataal lok review 2020, pataal lok 2020 review,amazon prime pataal lok review
Pataal Lok Review
(source:twitter)

क्विकीज़:-
●नई अमेजन प्राइम ओरिजनल
●हिंदी भाषा
●सस्पेंस, थ्रिलर और क्राइम
●15 मई 2020(releasing date)

●Show Name - Paatal Lok (पाताल लोक) ●Producer- Clean Slate Filmz Private Limited ●Creator – Sudip Sharma ●Cast – Jaideep Ahlawat, Neeraj Kabi, Gul Panag.

पाताल लोक वेब सीरीज का मिर्ची रिव्यू -



 जैसा कि ट्रेलर ब्रेक डाउन वाली पोस्ट में हमने बताया था , कहानी ठीक उसी तरह शुरू होती है। चार अपराधी, चीनी,तोप सिंह, कबीर एम, और विशाल त्यागी उर्फ हथौड़ा त्यागी आउटर यमुना पुल पर सी.बी.आई की टीम द्वारा संजीव मेहरा की हत्या करने के प्रयास के आरोप में पकड़ लिए जाते हैं।
 केस हाथी सिंह, आउटर यमुना पार थाना इंचार्ज को दिया जाता है। हाथी राम के पास कई साल बाद कोई ढंग का केस आया है और वह इसे सुलझाने की पूरी कोशिश करता है ।
वह अपने बेटे की नज़रों में इज़्ज़त बना सके और शायद प्रोमोशन भी पा सके। हाथी सिंह का जूनियर इमरान अंसारी उसका पक्का शागिर्द है। उसने पी सी एस मेन्स भी निकाल लिया है और अब इंटरव्यू की तैयारी कर रहा है।
केस सुलझाने के चक्कर में हम चारों अपराधियों के अतीत में भी झांकते हैं। इधर संजीव मेहरा का कैरियर डावांडोल चल रहा है।
उसके ऊपर उसकी न्यूज एजेंसी से इस्तीफा देने का दवाब है। वह इस खबर के बारे में और जानकारी निकाल कर अपने प्राइम टाइम में प्रदर्शित करता है जिससे उसकी खुद की उपयोगिता बनी रहे।
मीडिया में खबर लीक हो जाने के बाद केस सी बी आई को सौंप दिया जाता है और सी बी आई उसे जल्दी जल्दी झूठे दस्तावेज तैयार कर के सुलझा देती है।
 हाथी सिंह जैसे कुछ लोग मानते हैं कि केस गलत तरीके से सुलझाया गया है और केस को अपने स्तर से सुलझाना शुरू कर देते है।
 इसी चक्कर में हाथी सिंह विशाल त्यागी की पृष्टभूमि चित्रकूट से घटना के तार जोड़ता है और वहां के बाहुबली गूजर भैया से टकरा जाता है। अंत में क्या होता है यह हम, आपको ही जानने देते हैं जिससे हमारे रिव्यु द्वारा आपका मज़ा खराब न हो।

क्यों देखें पाताल लोक(Pataal Lok) :

अगर आप इस तरह की सस्पेंस फिल्मे पसंद करते हैं तो बेशक पाताल लोक वेब सीरीज को  देख सकते हैं । प्लाट उलझा हुआ जरूर है पर बढ़िया तरीके से दिखाया जाता है जिससे देखने वाला बोरियत महसूस नहीं करता। 
 एक्टिंग हर किरदार अपने ढंग से करता है और पाताल लोक एक्टिंग के मामले में हमे निराश नही करती है।हाथी राम चौधरी जयदीप अहलावत अपने रोल में पूरी तरह से जमते हैं।विशाल त्यागी (अभिषेक बनर्जी) और संजीव मेहरा (नीरज काबी) अपने अपने किरदारों के साथ न्याय करते हैं वैसे हम उन्हें पहले मिर्जापुर और सेक्रेड गेम्स में भी दमदार एक्टिंग करते देख चुके हैं। अन्य सपोर्टिंग किरदार भी अपना रोल अच्छे से निभाते हैं।
  डाइरेक्शन भी सधा हुआ है। फालतू की चीजों को न दिखाने की पुरजोर कोशिश की गयी है।अविनाश अरुण और प्रोसित रॉय, सुदीप शर्मा की लिखी कहानी के साथ न्याय करते हैं।

क्यों न देखें पाताल लोक(Pataal Lok) :-

अगर आप छोटे बच्चों के साथ बैठकर फिल्मे देखना पसंद करते हैं तो शायद आपको इसे देखने के लिए अपना इरादा बदलना पड़े। फ़िल्म में सेक्स सीन और साथ ही साथ डार्क क्राइम दृश्यों को भी डाला गया है जो बच्चों के लिए तो बिल्कुल सही नहीं हैं।


हमारा नज़रिया @ पाताल लोक वेब सीरीज:-

कुल मिलाकर हमें पाताल लोक वेब सीरीज ठीक ही लगी।हालांकि हम इससे ज्यादा की उम्मीद कर रहे थे पर फ़िल्म ने पूरी तरह से निराश नहीं किया।एक्टिंग उम्दा है हालांकि हमें लगा था कि अभिषेक बनर्जी (मिर्ज़ापुर वाले कंपाउंडर भैया) थोड़े ज्यादा बड़े रोल के हक़दार हैं।
कहानी का अंत थोड़ा अकल्पनीय है इसलिए किसी किसी के लिए शायद निराशाजनक भी हो।
 इकलौती चीज़ जो हमे पूरी तरह से पसंद नहीं आई वह है इसका धार्मिक रूप से पक्षपाती भरा होना।
 धार्मिक कट्टरता के दृश्य जबरदस्ती घुसे हुए से और एक पक्षीय हैं। माना कि भारत में धार्मिक कट्टरता बहुत ज्यादा बढ़ी हुई है लेकिन इसके लिए किसी एक पक्ष को दोषी मान लेना गलत है।
 फ़िल्म में वर्ग विशेष को धर्म पीड़ित और हिन्दू धर्म को आक्रांता और वर्ग विशेष से नफरत करने वाला दिखाया गया है। फ़िल्म में बताया गया है कि एक आम हिन्दू अपने साथी वर्ग विशेष समुदाय को लेकर अक्सर उस पर धार्मिक अपशब्द भी बोल देता है जबकि असलियत में अच्छे इंसान का हर जगह सम्मान होता है भले ही वह किसी भी धर्म का क्यों न हो।
 इसके अलावा फ़िल्म बेहतरीन है और कम से कम एक बार तो ज़रूर ही देखी जानी चाहिए।
 नोट हम अपने रिव्यू पूरी ईमानदारी और सच्चाई से करते हैं इसलिए शायद कुछ लोगों को इससे मिर्च सी लगती महसूस हो। अपने विचार हमे कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं।
 साथ ही अगर किसी फ़िल्म या वेब सीरीज का रिव्यु करवाना हो तो भी हमें अवगत कराएं।

इसे भी देखे:-
Betaal Web Series Trailer Review

Post a Comment

Share My Post for Friends......
Comment for My Work