"गुलाबो सिताबो" एक  शानदार मूवी है, इसमें मुख्य भूमिका में "अमिताभ बच्चन" और "आयुष्मान खुराना" है, इस मूवी का निर्देशन सुजीत सरकार और लेखन कार्य जूही चतुर्वेदी ने किया है इन दोनों की जोड़ी भी बहुत अजीब है इनसे पहले इन्होंने विक्की डोनर, पीके, अक्टूबर ,जैसी शानदार फिल्मों का निर्देशन और लेखन किया है।

गुलाबो सितावो मूवी रिव्यु हिंदी,hindi me review gulabo sitabo
गुलाबो सिताबो रिव्यु हिंदी

"गुलाबो सिताबो" मूवी का रिव्यु हिंदी में -

 अब यह जोड़ी " गुलाबो सिताबो" एक शानदार फिल्म लाई है फिल्म में कठपुतली किरदार गुलाबो सिताबो के नाम पर है फ़िल्म की कहानी यह है कि एक जर्जर पुरानी हवेली में  5 किराएदार सपरिवार अर्से से रह रहे होते हैं  मिर्जा चुनन नवाब( अमिताभ बच्चन) हवेली से बेहद मोहब्बत करते हैं।

 यह हवेली उनकी बेगम (फारुख जफर) की सबसे पुरानी हवेली है इनकी बेगम 17 साल उनसे बड़ी है वह भी खास इज्जत नहीं देती है।

मिर्जा और किराएदार  बांके रस्तोगी (आयुष्मान खुराना) के बीच किराए को लेकर हमेशा लड़ाई होती  रहती है बांके के पिता बहुत जल्दी स्वर्ग चले जाते हैं जब वह छठी क्लास में थे इसलिए परिवार की सभी जिम्मेदारी उन पर आ जाती है इसी कारण से वह ₹30 किराए के देने के लिए भी मिर्जा से आनाकानी करते रहते हैं।

 मिर्जा भी कुछ कम नहीं है 78 वर्ष के मिर्जा किरायेदारों के बल्ब निकालते हैं और साइकिल की घंटियां चुराकर ओने पौने रुपए में बेच देते हैं।

मिर्जा जब परेशानी में फंस जाते हैं जब उनकी हवेली को पुरातत्व विभाग के अधिकारी ज्ञानेंद्र शुक्ला फातिमा महल को हेरिटेज प्रॉपर्टी घोषित करने के लिए कहते हैं इसलिए वह विवादित प्रोपर्टी के विशेषक वकील क्रिस्टोफर क्लर्क के शरण में  जाते हैं|इसी बीच यह कहानी आगे बढ़ती रहती है वह कचहरी के चक्कर लगाते हैं उधर बांके रस्तोगी  उनको परेशान करते रहते हैं|

फिल्म में अमिताभ बच्चन और आयुष्मान खुराना की शानदार एक्टिंग है मनोरंजन और टॉम एंड जेरी जैसी नोकझोंक भी भी नोकझोंक भी  है|कोरोना के चलते हुए यह फिल्म अमेजॉन प्राइम वीडियो पर रिलीज  की गई है|

 मिर्जा इस इंतजार में है कि बेगम दुनिया से रुखसत हो और यह  हवेली मेरे नाम हो, उधर किराएदार बांके  रस्तोगी घर पाने की लालसा में है सुजीत और जूही चतुर्वेदी इन दोनों की लालसा और हवेली की चाहत के दृश्य बखूबी दर्शकों के सामने प्रस्तुत करते है ,मकान मालिक और किराएदार की नोकझोंक भी बहुत रोचक है आज के समय में भी भी यह चलती रहती है।

"गुलाबो सिताबो" मूवी क्यों देखे ?

 अगर आप अमिताभ बच्चन और  आयुष्मान खुराना के फैन हो तो यह मूवी जरुर देखें इस मूवी में अमिताभ बच्चन ने एक बूढ़े मिर्जा के रूप में बहुत अच्छा किरदार अदा किया है जो लोगों को बहुत अच्छा लगा उनकी लोगों को नोकझोंक भी बहुत पसंद बहुत पसंद भी बहुत पसंद बहुत पसंद आई है।

=>अगर आप को गुलाबो सितावो मूवी का रिव्यु अच्छा लगा हो तो आप अपने दोस्तों को whatsapp और facebook पर share जरूर करे। और आप को रिव्यु कैसा लगा comment करके बताये।

Post a Comment

Share My Post for Friends......
Comment for My Work