कतरा कतरा खून



कतरा कतरा खून का बहा देने वाले, 

वो शौर्य मान देश के पुत्र हैं, 

जब जब कोई निगाहें देश पर डाले, 

दुश्मनों की निगाहें जला देने वाले, 

वो धरती पुत्र देश के जवान हैं।।


कण कण में बसती जिसके देशभक्ति है, 

वो देश का सच्चा नागरिक है, 

सूरज को भी लाली दिखला देते हैं, 

मंगल पर जाने का साहस रखने वाले, 

वो आर्यावर्त के गौरव धानी हैं।।


दिन - रात जिनके लिए समान है, 

वो रिश्तों के परे रहने वाले इंसान हैं, 

एकता के सूत्र से बना हथियार है, 

जिस हथियार का न कोई तोड़ हैं जनाब़, 

वो वीर योद्धाओं की गज़ब संतान हैं||


धन्य-धन्य वो माँ की गोद है, 

धन्य-धन्य वो मिट्टी की शान है, 

हर एक इंसान की रक्षा का वरदान है, 

भारत माँ के सजदे वर्दी की शान है, 

तिरंगे के लिए लहू की आखिरी बूंद भी कुर्बान है।। 


कलम सजदे, इबादते करती है, 

वो इंसानियत का हसीन तोहफा है, 

शब्दकोश में भी तेरे लिए शब्दों की कमी है, 

गौरवशाली स्वर्णिम युग की पहचान है, 

वो सैनिक हिन्दुस्तान की आन, बान और शान है।।

    

  

Post a Comment

Share My Post for Friends......
Comment for My Work